अलीगढ़ के एएमयू पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष की धमकी; हम उस कौम से जो किसी भी देश को बर्बाद कर देंगे, 150 अज्ञात पर केस दर्ज
अलीगढ़. गुरुवार की शाम अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष अध्यक्ष फैजुल हसन ने विवादित बयान दिया। कहा- जब तक नागरिकता संशोधन कानून वापस नहीं होता है, हमारा आंदोलन खत्म नहीं होगा, चाहे छह माह लगें या छह साल। हम उस कौम से हैं कि अगर बर्बाद करने पर आएंगे तो किसी भी देश को छोड़ेंगे नहीं। एएमयू में बीते 40 दिनों से नागरिकता संशोधन कानून व राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विरोध में धरना जारी है। वहीं, गुरुवार की देर शाम शाहजमाल स्थित ईदगाह मस्जिद में बिना अनुमति प्रदर्शन करने के आरोप में पुलिस ने एएमयू के तीन छात्रों समेत 150 अज्ञात पर केस दर्ज किया है।




कुलपति के इस्तीफे की मांग कर रहे छात्र


सीएए के विरोध में एएमयू में बीते साल 15 दिसंबर को बवाल हुआ था। इसके बाद से कैंपस में छात्र धरने पर हैं। छात्र कैंपस में हुई पुलिस कार्रवाई के विरोध में कुलपति व रजिस्ट्रार के इस्तीफे की भी मांग कर रहे हैं। छात्रों की शिकायत है कि, धरना देते हुए इतने दिन हो गए लेकिन अभी कुछ नहीं हुआ। छात्रों के खिलाफ गुंडाएक्ट की कार्रवाई की जा रही है। कैंपस में घुसकर छात्रों की पिटाई करने वालों पर कार्रवाई नहीं हुई। गुरुवार को एएमयू के पहले कुलपति रहे राजा मोहम्मदाबाद के पौत्र प्रोफेसर अली खान मोहम्मदाबाद ने भी संबोधित किया। उनके साथ पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष फैजुल हसन ने भी छात्रों के बीच अपनी राय रखी।


शाह एएमयू के 12वीं छात्र से डिबेट नहीं कर सकते


फैजुल हसन ने कहा- गृहमंत्री अमित शाह ने एक कम्युनिटीसे दुश्मनी लेकर देश को दंगे में झोंक दिया है। गृह युद्ध जैसे हालात हैं। धरना ऐसे ही कायम रहेगा।अमित शाहएएमयू के 12वीं क्लास के बच्चे से भी डिबेटनहीं कर सकते। योगीजी ने कहा था कि, वो हालात कर दूंगा कि आपकी सात पुश्तेंपरेशान हो जाएंगी, जो भी सीएए, एनआरसी खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे हैं।अगर सब्र की सीमा देखनी है तो हिंदुस्तानी मुसलमानों की देखिए। 1947के बाद 2020 तक यह सब्र है,जो मुसलमान कर रहे हैं। कभी कोशिश नहीं की कि हिंदुस्तान टूट जाए। वरना रोक नहीं पाएंगे।हम वह कौमसे हैं कि अगर बर्बाद करने पर आएंगे तो छोड़ेंगे भी नहीं किसी भी देश को।इतना गुस्सा है, इतने जज्बात होते हैं।लेकिन कभी नहीं चाहते हैं।अपने मुल्क को बचाने के लिए अपने गले को कटवाया है।


बिना अनुमति धरने पर बैठीं महिलाएं, जेएनयू व एएमयू छात्रों पर केस दर्ज
थाना शाहजमाल स्थित ईदगाह मस्जिद में प्रशासन की अनुमति पर 2 दिन धरना प्रदर्शन किया गया था। लेकिन अनुमति समाप्त होने के बाद गुरुवार को धरना प्रदर्शन के लिए सैकड़ों महिलाएं एकत्रित हुई थीं, जिन्हें पुलिस प्रशासन द्वारा समझाया गया लेकिन महिलाओं द्वारा इसका विरोध किया गया। एसपी सिटी अभिषेक कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि धारा 144 का उल्लंघन करने के आरोप में 150 प्रदर्शनकारियों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। जिनमें शाहजमाल क्षेत्र के लोगों के साथ जेएनयू और एएमयू के छात्र शामिल हैं। जेएनयू के एक छात्र को पुलिस ने डिटेन किया था।