Budget 2020: देश के बजट में शिक्षा और नौकरी के क्षेत्र को क्या-क्या मिला






 
 




वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार, 1 फरवरी 2020 को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का दूसरा बजट पेश किया। इस दौरान वित्त मंत्री ने शिक्षा और नौकरी के क्षेत्र के लिए भी घोषणाएं की हैं। 2020 के देश के बजट में शिक्षा और नौकरी के क्षेत्र को क्या-क्या मिला, विद्यार्थियों के लिए क्या-क्या घोषणाएं हुईं, कौशल विकास के क्षेत्र में क्या किया जाएगा, कौन से नए शैक्षणिक संस्थान खोले जाएंगे, भर्तियों के लिए नया क्या होगा।

बजट 2020 में शिक्षा व नौकरी के लिए घोषणाएं


  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश का बजट 2020 पेश करते हुए घोषणा की है कि सत्र 2020-21 में शिक्षा के क्षेत्र में करीब 99,300 करोड़ रुपये का प्रस्ताव किया गया है।

  • इस बजट में देश में दो नए विश्वविद्यालयों का प्रस्ताव किया गया है। ये होंगे - राष्ट्रीय पुलिस विश्वविद्यालय (National Police University) और राष्ट्रीय न्यायिक विज्ञान विश्वविद्यालय (National Forensic Science University)।

  • पीपीपी मॉडल पर मेडिकल कॉलेज खोले जाने का प्रस्ताव किया गया है।

  • शिक्षा के लिए एफडीआई (FDI) की बात कही गई है।

  • डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के लिए 2021 तक नए संस्थान खोले जाने की घोषणा की गई है।

  • वंचित वर्ग के लिए डिग्री स्तर के ऑनलाइन शिक्षा कार्यक्रम की शुरुआत करने की घोषणा की गई है।



  • विदेश में शिक्षकों, नर्सों, चिकित्सा सहायक कर्मचारियों के कौशल को बेहतर किए जाने की जरूरत पर जोर डाला गया है।

  • कौशल विकास के लिए तीन हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाने का प्रस्ताव किया गया है।

  • स्टडी इन इंडिया कार्यक्रम के तहत 'इंड-सैट' का एशिया और अफ्रीका में संचालन किए जाने की घोषणा हुई है।

  • क्वांटम प्रौद्योगिकी और एप्लीकेशनों के लिए 8 हजार करोड़ रुपये का प्रस्ताव किया गया है।

  • राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (NRA - National Recruitment Agency) की स्थापना की जाएगी।


बता दें कि बजट 2020 में शिक्षा के क्षेत्र की बात करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ये भी कहा कि देश में नई शिक्षा नीति का एलान जल्द किया जाएगा।