टैक्‍स स्‍लैब में हुआ बड़ा बदलाव, लेकिन लागू होंगी ये शर्तें...

नई दिल्‍ली: आर्थिक सुस्‍ती और मौजूदा वित्‍त वर्ष में 5% प्रतिशत विकास दर की संभावना के बीच वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना दूसरा बजट (Budget 2020) संसद में पेश किया. सरकार ने बजट में आम आदमी को बड़ी राहत देते हुए पांच लाख रुपये तक की आय पर पूरी तरह से छूट दे दी है. यानी पांच लाख तक की आय वाले को कोई टैक्‍स नहीं देना होगा. इसी तरह 5-7.5 लाख रुपये की कमाई पर अभी तक 20% टैक्स पड़ता था. उसको सरकार ने घटाकर 10 प्रतिशत कर दिया है. 7.5 लाख-10 लाख की इनकम टैक्स स्लैब 20% से घटाकर 15% की गई. इसी तरह 10-12.50 लाख वालों की इनकम टैक्स स्‍लैब 30% से घटाकर 20% कर दी गई है. 15 लाख से ऊपर की इनकम पर बिना किसी छूट के 30%टैक्स देना होगा. हालांकि इनकम टैक्‍स का नया स्‍लैब वैकल्पिक होगा. नए टैक्‍स का लाभ लेने के लिए पुराने टैक्‍स में छूट को छोड़ना होगा. यानी इसका फायदा तभी मिलेगा जब आप अपनी मिलने वाली छूट को छोड़ देंगे. वित्‍त मंत्री ने कहा कि 15 लाख तक कमाने वाले अभी छूट का लाभ नहीं उठा रहे हैं, उन्‍हें अब सालाना 78 हजार की बचत होगी.


उन्‍होंने कहा कि बजट देश की उम्‍मीदों को पूरा करने वाला है. भारत की अर्थव्‍यवस्‍था की बुनियाद बेहद मजबूत है. जनता को मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों पर पूरा भरोसा है. जीएसटी के जरिये टैक्‍स का जाल खत्‍म हुआ. जीएसटी देश का सबसे क्रांतिकारी सुधार है. जीएसटी की वजह से लोगों को हर महीने चार प्रतिशत की बचत होती है. 1 अप्रैल से जीएसटी का नया फार्म उपलब्‍ध होगा. अरुण जेटली को मैं श्रद्धांजलि अर्पित करती हूं जिन्‍होंने जीएसटी बनाया. जीएसटी लागू करना ऐतिहासिक कदम था. सरकार महंगाई को काबू करने में कामयाब रही. जीएसटी से ट्रकों की आवाजाही 20 प्रतिशत बढ़ी. हमारी सरकार का लक्ष्‍य किसानों की आय दोगुना करना है. पीएम किसान योजना का किसानों को फायदा हुआ. किसानों की भलाई के लिए सरकार 16 सूत्री योजना पर काम कर रही है.


उन्‍होंने कश्‍मीरी भाषा में एक कविता भी पढ़ी. इस कविता को साहित्‍य अकादमी से पुरस्‍कृत लेखक पंडित दीनानाथ कौल ने लिखा था:


Comments